वर्षा ऋतु पर निबंध- Best 3 Varsha Ritu Essay in Hindi

मस्कार दोस्तों, आप सभी का Hindi-English ब्लॉग में स्वागत है. आज हम “वर्षा ऋतु पर निबंध हिंदी में (Rainy Season or Varsha Ritu Essay in Hindi For Class 5, 6, 7, 8, 9, 10)” लेख में एक बहुत ही अच्छे 3 हिंदी निबंध देखने जा रहे हैं। वर्तमान में किसी भी परीक्षा में किसी भी विषय का निबंध अनिवार्य पूछा जाता है और यह विषय सभी मानक छात्रों के लिए भी बहुत उपयोगी है। इसी वजह से हमने यहां वर्षा ऋतु पर तीन Hindi निबंधों का उदाहरण दिया है। आपको यह उदाहरण जरूर पसंद आएगे।

हम भारत में रहते हैं और हम बहुत भाग्यशाली भी हैं क्योंकि हम सभी मौसमों का आनंद ले सकते हैं। आपको पता होना चाहिए कि भूगोल की दृष्टि बहुत कम देशों की है जहां आप विभिन्न मौसमों का अनुभव कर सकते हैं । तो चलिए हमारे तीन निबंधों के उदाहरण पर चलते हैं। आपको इन निबंधों को कॉपी करने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि आपको यहां से मार्गदर्शन प्राप्त करना है और अपना एक सुंदर निबंध लिखना है, जो यहां दिए गए उदाहरण से और अन्य छात्रों की तुलना में बेहतर हो।

यह भी जरूर पढ़े- आजादी का विलोम शब्द – Aazadi Vilom Shabd in Hindi

वर्षा ऋतु पर निबंध हिंदी में (Rainy Season or Varsha Ritu Essay in Hindi For Class 5, 6, 7, 8, 9, 10)

बरसात के मौसम को अंग्रेजी में Rainy Season के रूप में भी जाना जाता है, यह भारत में शीर्ष 4 मौसमों में से एक है। आमतौर पर हमारे देश में बारिश का मौसम 15 जून से शुरू होता है, जबकि दक्षिण पश्चिम भारत से आने वाली मानसूनी हवाएं पूरे देश में चलती हैं। इस समय उत्तर पश्चिम भारत में ग्रीष्म ऋतु में निम्न वायुदाब का क्षेत्र अधिक तीव्र और स्थिर होता है।

इस निम्न दबाव के कारण दक्षिण-पूर्वी बहने वाली हवाएँ, जो भारत की ओर आकर्षित होती हैं और भारतीय प्रायद्वीप से बंगाल की खाड़ी और अरब सागर की ओर बहती हैं। जब दक्षिण-पश्चिम मानसूनी हवाएँ स्थलीय भागों में प्रवेश करती हैं, तो वे गरज और बिजली के साथ भारी वर्षा करती हैं। इस प्रकार की वायु का आगमन और इसके कारण होने वाली वर्षा को मानसूनी वर्षा कहते हैं।

500 शब्द का मेरी प्रिय ऋतु वर्षा ऋतु पर निबंध (500 Words Long Varsha Ritu Essay In Hindi)

ग्रीष्म, वर्षा, सर्दी, पतझड़ और वसंत इस प्रकार भारत में प्रत्येक मौसम की अपनी अपनी विशिष्ट शैली होती है। गर्मी के मौसम की भीषण गर्म वातावरण के बाद बारिश का मौसम हर जीव-जंतु को नया जीवन देने के लिए आता है। असह्य गर्मी से तबाह हो चुके वन्यजीवों के लिए बारिश के मौसम की शुरुआत के साथ ही उभरने का एक नया मौका है।

बारिश के आगमन के साथ ही तेज बारिश के साथ मौसम अचानक सुहाना हो जाता है। सम्पूर्ण धरती पर हरियाली लौट आती है क्योंकि यह पृथ्वी को एक नई हरी चादर से ढक देती है। आषाढ़ और श्रवण यह दो महीने मुख्य रूप से बरसात के मौसम माने हैं, लेकिन उसके बाद भी भारत में कही हिस्सों में कुछ समय के लिए बारिश होती है।

सामान्य रूप से पूरे देश में चार महीने की अवधि के लिए बारिश होती है, इसलिए इस बरसात के दिन को चातुर्मास भी कहा जाता है। भारत में यह मौसम एक साथ शुरू नहीं होता है। जून की शुरुआत में केरल से शुरू होकर यह अगले एक महीने तक पूरे देश में बारिश होती है। भारत में वर्षा का बहुत महत्व है, क्यों की हमारे देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से मानसून यानी बारिश के मौसम पर निर्भर है।

बारिश के आगमन के साथ ही माहौल फिर से खुशनुमा हो जाता है। अगर हम अपने देश की बात करें तो भारत में मानसून में ही बारिश होती है, जो देश के पश्चिमी तट से होकर गुजरती है और फिर उत्तरपूर्वी हिस्सों में चली जाती है। आज भी भारत में 70% से अधिक लोग कृषि और कृषि व्यवसाय से जुड़े हुए हैं, जिससे देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलती है। इसका मतलब है कि हमारे देश की अर्थव्यवस्था ज्यादातर बारिश के मौसम पर निर्भर है।

rainy season essay in hindi- वर्षा ऋतु पर निबंध
rainy season essay in hindi- वर्षा ऋतु पर निबंध

यह न केवल मनुष्य बल्कि जीवित सभी जानवरों, पक्षियों, पेड़ों और पौधों को नया जीवन प्रदान करता है। बारिश के साथ प्रकृति ने नया रूप धारण कर लेती है। हिंदू धर्म में, भगवान इंद्र को वर्षा का देवता माना जाता है, यही कारण है कि बारिश का मौसम शुरू होते ही कई स्थानों पर भगवान इंद्र की पूजा की जाती है। प्राचीन काल से ही लोग अलग अलग तरह से बारिश का आनंद लेते रहे हैं।

रक्षाबंधन और जन्माष्टमी जैसे महत्वपूर्ण त्योहार इसी ऋतु में मनाए जाते हैं। लगातार हो रही बारिश से हर नदी नाला भर जाता है, जो आने वाले कई महीनों तक सभी जानवरों की पानी की जरूरत को पूरा करेगा। खेती के लिए बरसात के मौसम आशीर्वाद के समान है।

बारिश होने पर किसान खेतों में बीज बोते हैं। अच्छी बारिश एक अच्छी फसल देता है, जो अगले साल तक सभी की खाने की चिंता को कम कर देगी। गर्मी में सूरज की गर्म लहार के बाद बारिश की चार बुँदे सभी जीवित प्राणी को आनंदित कर देती है और बारिश गिरते ही आपको मोर की मनमोहक आवाज सुनाई देती है.

इन्द्रधनुष के बीच बादल बहोत ही सुंदर लगते हैं, मानो अप्सरा की आंखें पर काजल बन के इसकी शोभा बढ़ा देती हैं। सबसे पहले तो वर्षा ऋतु के आगमन के साथ ही मौसम सुहाना हो जाता है क्योंकि यह मौसम से काले जाल की गर्मी को दूर कर ठंडक का अहसास देता है।

वर्षा सभी जानवरों, पक्षियों, पौधों और मनुष्यों की पानी की जरूरतों को पूरा करती है। बारिश सभी पौधों को पुनर्जीवित करती है और उनके नए बीजों को अंकुरित करती है। वर्षा वातावरण में स्थिरता लाती है और वायु प्रदूषण को भी कम करती है।बारिश सभी जीवित चीजों की खाद्य समस्या को हल करने में मदद करती है। इसी तरह से यह हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण ऋतू है.

यह निबंध भी जरूर पढ़े

कंप्यूटर पर निबंध- 3 Best Computer Essay In Hindi
गरवी गुजरात निबंध- 3 Best Garvi Gujarat Essay In Hindi
वसंत ऋतु पर निबंध- Best 3 Spring Season Essay in Hindi
मेरी यादगार यात्रा पर निबंध- Best 3 My Memorable Journey Essay in Hindi

300 शब्द ऋतुओं का राजा वर्षा ऋतु पर निबंध (300 Words Short Rainy Season or Varsha Ritu Essay In Hindi)

परिचय

गर्मी के बाद बरसात का मौसम शुरू हो जाता है और जब वर्षा होती है तो आकाश घने बादलों से ढक जाता है। मुख्य रूप से भारत में, आषाढ़ और श्रावण के दो महीनों को मानसून का मौसम माना जाता है, जब पूरे भारत में बारिश देखने को मिलती है।

वर्षा ऋतु का आगमन

भारत में कुदरत ने ऋतुओं के क्रम को इस तरह बनाए रखा है कि जब एक बिदाई करता है तो दूसरे का आगमन बहुत सुखद लगता है। ग्रीष्म ऋतु के मौसम की भीषण गर्मी से जब पूरी धरती गर्म हो जाती है तो ऐसा लगता है जैसे धरती जल रही है, हर प्राणी गर्मी से त्रस्त हो जाता है।

हवा धूसरित हो जाती है, प्यासे जानवर हर बूंद के लिए तरसते हैं. किसानों की निगाहें आसमान पर होती है और ऐसी विकट स्थिति में जब आसमान में बादल मंडराने लगते हैं तो सभी का मन शांति से भर जाता है. वर्षा ऋतु के आगमन से मनुष्य, पशु, पक्षी, पेड़-पौधे सभी खुश हो जाते हैं।

short varsha ritu essay in hindi- लघु वर्षा ऋतु पर निबंध
short varsha ritu essay in hindi- लघु वर्षा ऋतु पर निबंध

ऐसा लगता है कि आसमान में काले और सफेद बादल अभी बरसने लगेंगे। थोड़े समय में बारिश शुरू हो जाती है और धरती बिजली से कांपने लगती है। ऊष्मा भरी गर्मी का कहर थमने थमने लगता है. चिड़ीया, मोर, किसान और अन्य पशु और पक्षी खुशी से नाचने लगते हैं। वसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा कहा जाता है और वर्षा को ऋतुओं की रानी कहा जाता है। दक्षिण-पश्चिम भारत से मानसूनी हवाएँ चलती हैं।

इस हवाओ के कारण भारत के विभिन्न भागों में भारी वर्षा होती है। इस मौसम में ज्यादातर आसमान में बादल छाए रहते हैं। एक ठंडी हवा चलती है, बिजली चमकने और गरज के साथ लगातार बारिश होती है। श्रावण के महीने में हो रही ऐसी लगातार बारिश को श्रवण धारा कहा जाता है, जिससे कई क्षेत्रों में तापमान में धीरे-धीरे गिरावट आती है।

निष्कर्ष

सभी कुओं, झीलों और नहरों में पानी भर जाता है। वर्षा ऋतु की शुरुआत के साथ, पृथ्वी की सतह का रूप और रंग बदल जाता है। खेत बारिश के पानी से भर जाते है। हम चारों ओर से हरियाली से घिरे हैं, वहीं हरियाली धरती की सुंदरता को सौ गुना बढ़ा देती है। 

इंद्रधनुष के सात रंगों की उपस्थिति आकाश को सुशोभित करती है, इसकी क्षण भर सुंदरता सार्वजनिक जीवन को मंत्रमुग्ध कर देती है। आसमान में काले बादलों को देखकर मोर पंख खोलकर नाचने लगता है। ऐसे ही चार महीने तक यह ऋतु चलती है और धीरे धीरे ठंडी शुरू हो जाती है.

10 लाइन वर्षा ऋतु पर निबंध या वाक्य (10 Lines Varsha Ritu Essay In Hindi)

  • ग्रीष्म ऋतु के बाद वर्षा ऋतु जून से प्रारंभ होती है।
  • बरसात के मौसम के दौरान, आकाश चमकीले नीले और काळा बादलों और सात रंगों से भरा इंद्रधनुष से ढका होता है।
  • किसान बेसबरी से बारिश का इंतजार कर रहे हैं।
  • बारिश से गर्मी, धूल और प्रदूषित हवा से राहत मिली है।
  • हमारे आसपास का वातावरण हरा भरा हो जाता है।
  • नदियों और झीलों में बाढ़ आ जाती है जिससे ठंडी हवा वातावरण में प्रवाहित हो जाती है।
  • पक्षी चहकते हैं और मोर एक सुखद वातावरण में पंख फड़फड़ाते उसका मजा लेते हैं।
  • भूजल में काफी सुधार होता है और पानी का स्तर बढ़ जाता है, जो आने वाले वर्ष के कही महीनो तक हमारी पानी की जरुरत पूरी करेंगे।
  • सभी जानवरों को खाने के लिए हरी घास मिलती है।
  • बरसात के दिनों में तो सभी किसान खेत में फसल लगाने लगते हैं।

Varsha Ritu Essay In Hindi PDF

अगर आपको “वसंत ऋतु निबंध” की PDF फाइल चाहिए, तो आप निचे कॉमेंट कर सकते है. जब की आप अपने Google Chrome ब्राउसर की मदद से किसी भी वेब पेज को आसानी से PDF फाइल में कन्वर्ट कर सकते है. इसके लिए आपको वेब पेज को प्रिंट करना है, जहा आपको Save as PDF ऑप्शन मिल जायेगा। इस काम में आपको कोई भी दिक्कत आ रही है, तो निचे कमेंट करे. हम आपकी जल्द सहायता करेंगे।

FAQ

भारत में कुल कितनी ऋतु है?

मुख्य रूप से सर्दी, गर्मी और मानसून ऋतु भारत में बारी बारी से आती है, इन सभी की अवधि एक सामान होती है.

वर्षा ऋतु का आगमन कब होता है?

भारत में बारिश का मौसम 15 जून से शरू होता है और थोड़े दिनों के अंदर पुरे भारत में बारिश होने लगती है.

वर्षा ऋतु अवधि कितनी होती है?

यह ऋतू भारत में 4 महीने चलता है और उसके बाद धीरे धीरे ठंडी का मौसम शुरू होता है.

Disclaimer

इस आर्टिकल में गलती से हमारी टीम द्वारा कोई भी टाइपिंग एरर हो सकती है. अगर आपको कोई भी ऐसी गलती दिखे तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताये, हम जल्द ही उस गलती को सुधारने का प्रयास करेंगे।

Summary

आशा करता हूँ की आपको “वर्षा ऋतु पर निबंध हिंदी में (Varsha Ritu Essay in Hindi For Class 5, 6, 7, 8, 9, 10)” आर्टिकल बहुत ही उपयोगी और मजेदार लगा होगा। इस वर्षा ऋतु पर निबंध के उदहारण द्वारा आपको अपना एक सुन्दर निबंध लिखना है, ना की सीधा ही रट्टा लगाना है. ऐसी ही हिंदी में मजेदार जानकरी के लिए हमारे ब्लॉग www.hindi-english.net की मुलाकात लेते रहिये और हमें YouTube, Facebook और Instagram पे फोलो करना ना भूले।

Leave a Comment

hindi-english-logo-main

In this website you can find Useful Information, Dictionary, Essay, Kids Learning, Student Material, Stories, Tech Updates, Suvichar and Full Form in Hindi.

Contact us

Address- 17, Einsteinpalais, Friedrichstraße, Berlin Mitte, Berlin, Germany- 10117

hindienglishblog@gmail.com

Mon to Friday
9:00 am to 18:00 pm