स्वच्छता पर निबंध- 3 Best Swachata Essay In Hindi

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का Hindi-English ब्लॉग में स्वागत है. आज हम “स्वच्छता पर निबंध हिंदी में (Swachata Essay In Hindi)” लेख में एक बहुत ही अच्छे 3 हिंदी निबंध देखने जा रहे हैं। वर्तमान में किसी भी परीक्षा में किसी भी विषय का निबंध अनिवार्य पूछा जाता है और यह विषय सभी मानक छात्रों के लिए भी बहुत उपयोगी है। इसी वजह से हमने यहां स्वच्छता पर तीन Hindi निबंधों का उदाहरण दिया है। आपको यह उदाहरण जरूर पसंद आएगे।

वर्तमान में हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी भी स्वच्छता पर बहुत प्रभावी ढंग से प्रचार कर रहे हैं और लोगों को शिक्षित कर रहे हैं और मुझे उम्मीद है कि लोग भी इस मामले को ध्यान में रखेंगे और अपने जीवन स्तर में सुधार करेंगे। यदि आप इस पृष्ठ पर गए हैं तो आपको भी इस विषय पर विचार करना होगा और अपने देश को स्वच्छ रखने का प्रयास करना होगा।

स्वच्छता पर निबंध हिंदी में (Swachata Essay In Hindi Language For Standard 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12)

नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य को पूरा करने के लिए प्रत्येक भारतीय नागरिक का एक छोटा सा कदम भी एक बड़ा अभियान हो सकता है। दैनिक जीवन में हमें बच्चों को स्वच्छता के महत्व और उद्देश्य के बारे में बताना चाहिए। अच्छा स्वास्थ्य व्यक्ति के जीवन को बेहतर बना सकता है और यह हमें बेहतर सोचने और समझने की शक्ति देता है और आपको पता होना चाहिए कि स्वास्थ्य का मूल मंत्र स्वच्छता है।

यह एक अच्छी आदत है जिसे हमें अच्छे स्वास्थ्य और स्वस्थ जीवन के लिए अपनाना चाहिए। स्वच्छता भी एक पुण्य का कार्य है, जिसका जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए सभी को एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी के रूप में पालन करना चाहिए। हमें अपनी व्यक्तिगत स्वच्छता, पालतू जानवरों की स्वच्छता, पर्यावरण की स्वच्छता, अपने आस-पास और कार्यस्थल की स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। पर्यावरण को स्वच्छ रखने के लिए पेड़ नहीं काटने चाहिए।

यह कोई मुश्किल काम नहीं है जैसा आप सोचते हैं, लेकिन हमें इसका पालन करना चाहिए और आवश्यकतानुसार इसे करना चाहिए। यह हमें मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और बौद्धिक रूप से भी स्वस्थ रखता है। सभी का मिलकर उठाया गया कदम एक बड़े स्वच्छता अभियान में बदल सकता है। जब एक छोटा बच्चा सफलतापूर्वक चलना, बोलना, दौड़ना सीख सकता है और यदि माता-पिता द्वारा प्रोत्साहित किया जाए तो बचपन में स्वच्छता की आदतों को विकसित करना भी बहुत आसान है।

तो चलिए अपने निबंध के उदाहरण पर चलते हैं और उम्मीद है कि इस उदाहरण से प्रेरणा मिलेगी और आप आसानी से हमारे निबंध से भी बेहतर अपना निबंध लिख सकते हैं।

300 शब्दों का हिंदी में स्वच्छता पर एक लघु निबंध (300 Word Swachata Essay In Hindi)

हाइजीन एक अच्छी आदत है, जो हम सभी के लिए बहुत जरूरी भी है। हमें उनके घरों, पालतू जानवरों, उनके आसपास के वातावरण, झीलों, नदियों, स्कूलों आदि को साफ करने की जरूरत है। आप यह भी जानते हैं कि हमें हमेशा साफ सुथरा और अच्छे कपड़े पहनना चाहिए। यह समाज में एक अच्छे व्यक्तित्व और प्रभाव का निर्माण करने में मदद करता है, क्योंकि यह आपके अच्छे चरित्र को दर्शाता है।

हमारे शरीर को साफ रखने के अलावा, पर्यावरण और प्राकृतिक संसाधनों, जैसे भूमि, पानी, भोजन आदि को साफ रखना उतना ही जरूरी है जितना कि पृथ्वी पर स्थायी जीवन को संभव बनाने के लिए हमारे शरीर को साफ रखना। .

स्वच्छता हमें मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और बौद्धिक रूप से हर तरह से स्वस्थ बनाती है। सामान्य तौर पर, हम अपने घर में हमेशा देखेंगे कि पूजा से पहले हमारी दादी और माताएं स्वच्छता के लिए बहुत मेहनत करती हैं, फिर हमें यह व्यवहार अलग नहीं लगता, क्योंकि वे सिर्फ स्वच्छता को अपनी आदत बनाना चाहते हैं।

लेकिन उन्हें गलत दृष्टिकोण अपनाने की जरूरत है, क्योंकि वे हमें स्वच्छता का उद्देश्य और लाभ कभी नहीं बताते हैं, इसलिए हमें स्वच्छता का पालन करने में कठिनाई होती है। प्रत्येक माता-पिता को अपने बच्चों से स्वच्छता के उद्देश्य, लाभ और आवश्यकता के बारे में तार्किक रूप से बात करनी चाहिए। उन्हें बताया जाना चाहिए कि स्वच्छता हमारे जीवन में उतनी ही महत्वपूर्ण है जितनी कि भोजन और पानी।

300 word swachata essay In hindi- शार्ट स्वच्छता पर निबंध
300 word swachata essay In hindi- शार्ट स्वच्छता पर निबंध

हमें अपने भविष्य को उज्जवल और स्वस्थ बनाने के लिए हमेशा अपना और अपने आसपास के वातावरण का ध्यान रखना चाहिए। हमें प्रतिदिन साबुन से नहाना चाहिए, नाखून काटने चाहिए, साफ और लोहे के कपड़े पहनने चाहिए। हमें अपने माता-पिता से सीखना चाहिए कि घर को साफ-सुथरा कैसे रखा जाए।

हमें अपने आसपास साफ-सफाई रखनी चाहिए ताकि किसी भी तरह की बीमारी न फैले। कुछ भी खाने से पहले और बाद में हाथों को साबुन से धोना चाहिए। हमें दिन भर साफ और शुद्ध पानी पीना चाहिए, बाहर का खाना बार-बार खाने से बचना चाहिए, साथ ही अधिक मसालेदार भोजन और कोल्ड ड्रिंक से भी बचना चाहिए। इससे हम खुद को स्वच्छ और स्वस्थ रख सकते हैं।

अब अगर हम अपने घर को साफ-सुथरा रखते हैं तो हमारे लिए भी अपने देश को रखना जरूरी हो जाता है और भारतीय होना भी हमारे कर्तव्यों में से एक बन जाता है। जब भी हम बाहर जाएं तो हमें कूड़ेदान को इधर-उधर फेंकने की बजाय कूड़ेदान का ही इस्तेमाल करना चाहिए। इसलिए इसे “वहां स्वच्छता ही प्रभुत्व है” कहा जाता है।

यह निबंध भी जरूर पढ़े

गरवी गुजरात निबंध- 3 Best Garvi Gujarat Essay In Hindi
वसंत ऋतु पर निबंध- Best 3 Spring Season Essay in Hindi
वर्षा ऋतु पर निबंध- Best 3 Varsha Ritu Essay in Hindi
मेरी यादगार यात्रा पर निबंध- Best 3 My Memorable Journey Essay in Hindi

500 शब्द का स्वच्छता पर निबन्ध हिंदी में (500 Word Swachata Essay In Hindi)

निबंध का परिचय

स्वच्छता किसी के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। चाहे कोई भी क्षेत्र हो, हमें हमेशा उसका पालन करना चाहिए। स्वच्छता कई प्रकार की हो सकती है जैसे, सामाजिक, व्यक्तिगत, वैचारिक आदि।

हमें इसे हर क्षेत्र में अपनाना चाहिए क्योंकि प्रत्येक का एक अलग अर्थ होता है और लाभ भी होता है। स्वच्छता हमें एक बेहतर इंसान बनाती है, व्यक्तिगत स्वच्छता हमें हानिकारक बीमारियों से बचाती है। इसलिए हमें हमेशा स्वच्छता के सार्वभौमिक विकास के लिए प्रयास करना चाहिए और हमें अपने शरीर, घर और आसपास को साफ रखना चाहिए।

स्वच्छता का महत्व

व्यक्ति चाहे छोटा हो या बूढ़ा, किसी भी उम्र में उसे कुछ स्वच्छता नियमों का पालन करना चाहिए जैसे, खाने से पहले और बाद में हमेशा साबुन से हाथ धोना, रोजाना नहाना, दांतों को ब्रश करना, गिरी हुई चीजें न खाना, शरीर की देखभाल करना। घर को साफ रखें, घर में उचित धूप रखें, अपने नाखूनों को साफ रखें, न केवल घर बल्कि आसपास के वातावरण को भी साफ रखें, अपने स्कूल, कॉलेज या किसी सार्वजनिक स्थान पर कचरा न फैलाएं।

सूखे और गीले कचरे को हरे और नीले कूड़ेदान में अलग करें। इस तरह, कई अन्य चीजें हैं जो आप स्वच्छता की आदतों को विकसित करने के लिए कर सकते हैं। स्वच्छता को लेकर आपकी एक छोटी सी पहल भी भविष्य में बहुत उपयोगी साबित हो सकती है, इसकी शुरुआत हमें खुद से करनी चाहिए न कि किसी और से।

500 word swachata essay In hindi- लम्बा स्वच्छता पर निबंध
500 word swachata essay In hindi- लम्बा स्वच्छता पर निबंध

स्वच्छता के लाभ

स्वच्छता के कई फायदे हैं जैसे अच्छी स्वच्छता की आदतें हमें कई बीमारियों से बचाती हैं। कोई भी बीमारी न सिर्फ शरीर के लिए हानिकारक होती है, बल्कि खर्चा भी ज्यादा होता है। गंदे पानी और भोजन के सेवन से पीलिया, टाइफाइड, हैजा जैसी खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं। गंदा वातावरण हमेशा मच्छरों को जन्म देता है जो मलेरिया, डेंगू, चिकनपॉक्स जैसी घातक बीमारियों को फैलाते हैं।

स्वच्छता के नियमों का पालन करना अनावश्यक बीमारियों की घटनाओं को बढ़ाने से बेहतर है। ऐसा करके हम देश को बीमारियों पर खर्च होने वाले लाखों रुपये बचा सकते हैं। व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ-साथ वैचारिक स्वच्छता हमें एक अच्छा इंसान बनाती है। जो हमेशा अपने विकास के साथ-साथ दूसरों का भला सोचता है और जब देश के सभी लोग ऐसी भावना से जीने लगेंगे तो वह दिन दूर नहीं जब देश स्वच्छता के साथ प्रगति के पथ पर तेजी से आगे बढ़ने लगेगा।

स्वच्छता मिशन

स्वच्छता की आवश्यकता को स्वीकार करते हुए, भारत सरकार ने स्वच्छ भारत नामक एक अभियान भी शुरू किया, जिसे पहली बार 2 अक्टूबर 2014 को गांधी जयंती के अवसर पर शुरू किया गया था। लेकिन कोई भी अभियान केवल सरकार द्वारा नहीं चलाया जा सकता, देश में रहने वाले नागरिकों के बीच जागरूकता फैलाने की जरूरत है और उन्हें भी इस संबंध में आगे बढ़ना चाहिए।

इस अभियान के तहत, भारत सरकार ने शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में स्वच्छता को बढ़ावा दिया है और भारत को खुले में शौच मुक्त बनाने का संकल्प लिया है। अब तक भारत का 98 प्रतिशत हिस्सा खुले में शौच से मुक्त है। इसी तरह कई अन्य अभियान जैसे निर्मल भारत, बाल स्वच्छता अभियान आदि भी चल रहे हैं। सभी का उद्देश्य भारत में स्वच्छता को बढ़ावा देना है।

निष्कर्ष

हम कह सकते हैं कि स्वच्छता हमारे जीवन का अभिन्न अंग है और स्वच्छता की आदतों से हम स्वस्थ जीवन जी सकते हैं। और जब हमारा स्वास्थ्य अच्छा होता है तो हम अपने आस-पास की जगह को आसानी से साफ कर सकते हैं। जब हमारा पूरा पर्यावरण स्वच्छ होगा तो देश भी स्वच्छ रहेगा और इस प्रकार एक छोटे से प्रयास से हम पूरे देश को स्वच्छ कर पाएंगे।

हमें कम उम्र से ही बच्चों में स्वच्छता की आदतें डालनी चाहिए, क्योंकि वे देश का भविष्य हैं और एक अच्छी आदत देश में बदलाव ला सकती है। जिस देश के बच्चे सामाजिक, वैचारिक और व्यक्तिगत रूप से स्वच्छ हों, उस देश की प्रगति को कोई नहीं रोक सकता। आप भी एक जिम्मेदार नागरिक बनें और देश के विकास में अपना योगदान दें। स्वच्छता अपनाएं और देश को आगे ले जाएं।

स्वच्छता का महत्व निबंध हिंदी में (long Swachata Ka Mahatva Essay In Hindi)

मानव जीवन में स्वच्छता एक आवश्यक गुण है। सभी को अपने आसपास साफ-सफाई रखनी चाहिए। क्योंकि स्वच्छता व्यक्ति को बीमारियों से दूर रखती है। और जब कोई व्यक्ति बीमारियों से दूर रहता है तो उसका शारीरिक और मानसिक विकास बहुत अच्छा होता है। स्वच्छ वातावरण में रहने वाले लोगों का दिमाग शांत होता है। ऐसे लोग समाज और देश को अच्छी सोच प्रदान करते हैं। इसलिए हमेशा अपने आस-पास को साफ रखने की पूरी कोशिश करें।

स्वच्छता का अर्थ

स्वच्छता का अर्थ है प्रभुत्व। अगर हम साफ-सफाई को सरल भाषा में समझ लें तो हम तन, मन और अपने आस-पास की हर चीज को साफ रखते हैं। गांधीजी ने स्वच्छता के लिए एक बहुत ही सुंदर वाक्य कहा कि “स्वच्छता ही सेवा है”। यदि आप अपने देश की सेवा करना चाहते हैं, तो पहले अपने देश को स्वच्छ रखने के लिए काम करना शुरू करें।

इसमें खासकर हमारे देश के लिए हाइजीन बहुत जरूरी है, क्योंकि हमारे देश में आबादी ज्यादा है और गंदगी भी ज्यादा है। इस वजह से हमारे देश में बीमारियां ज्यादा हैं। देश में फैली गंदगी को अगर समय रहते साफ नहीं किया गया तो एक बेहद खतरनाक बीमारी की समस्या खड़ी हो गई है. यह न केवल लोगों को बीमार करेगा बल्कि देश की अर्थव्यवस्था को भी गंभीर रूप से प्रभावित करेगा। इसलिए हमें स्वच्छता पर ध्यान देने की जरूरत है।

स्वच्छता की आवश्यकता क्यों?

जैसे भोजन, पानी, हवा, घर और वस्त्र मानव जीवन के लिए आवश्यक हैं, वैसे ही स्वच्छता भी हैं। क्योंकि अगर आप अपने आसपास साफ-सफाई नहीं रखेंगे तो मलेरिया, हैजा, पीलिया जैसी खतरनाक और जानलेवा बीमारियां बढ़ेंगी। इससे आपको ही नहीं बल्कि आपके बच्चों को भी खतरा हो सकता है। लेकिन अगर आप अपने आस-पास साफ-सफाई रखेंगे तो ऐसी जानलेवा बीमारियां आपसे दूर रहेंगी। इसलिए हमें स्वच्छता की जरूरत है।

स्वच्छता व्यक्ति को न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रखती है। इसके अलावा जब आपके आसपास अधिक गंदगी होती है तो आपके आसपास मच्छर, कीड़े, चूहे, सांप, बिच्छू, तिलचट्टे, मक्खियां और कई तरह के कीटाणुओं का प्रकोप बढ़ जाता है। इस दौरान प्रकोप तेज होता है, लेकिन सांप और बिच्छू जैसे जहरीले जानवरों के काटने से इंसानों की जान जा सकती है। यही कारण है कि स्वच्छता बनाए रखना बहुत जरूरी है।

कहा जाता है कि स्वच्छ रहना और अपने आस-पास को स्वच्छ रखना मानव का स्वाभाविक गुण है। शुद्ध मनुष्य का मन सदा प्रसन्न रहता है। लेकिन मनुष्य गंदगी के कारण तनाव में रहता है। इसलिए इसे साफ करना जरूरी है। और ऐसी कई जरूरतें हैं, इसलिए हमें अपने आसपास के वातावरण को साफ रखने की जरूरत है।

भारतीय संस्कृति में सदियों से यह मान्यता रही है कि जहां स्वच्छता होती है वहां लक्ष्मी का वास होता है। इसके अलावा हमारे शास्त्रों में स्वच्छता के बारे में काफी जानकारी है। गांधीजी ने स्वच्छता के बारे में कहा कि भक्ति के बाद दूसरी सबसे महत्वपूर्ण चीज स्वच्छता है। क्योंकि स्वच्छता जीवन के सभी पहलुओं को प्रभावित करती है। स्वच्छता हमें जानलेवा बीमारियों से बचा सकती है।

आपने देखा होगा कि एक साफ-सुथरे व्यक्ति के चेहरे पर हमेशा एक चमक रहती है। सब उसे सम्मान की नजर से देखते हैं। लेकिन अशुद्ध और गंदे रहने वाले व्यक्ति के बगल में कोई नहीं बैठता। ऐसे लोगों का कोई सम्मान नहीं करता। इसलिए हमेशा स्वच्छ रहें और अपने आस-पास को भी साफ रखने की पूरी कोशिश करें।

स्वच्छता के लाभ

स्वच्छता के उतने ही फायदे हैं जितने कि अस्वच्छता के। बहुत से लोग नदियों और खाइयों में कचरा फेंक कर प्रकृति और चावल के पानी को प्रदूषित करते हैं। जिससे कई चीजें सड़ जाती हैं और बदबू आती है। कभी-कभी बदबू इतनी तेज होती है कि निकलना मुश्किल हो जाता है।

ऐसे स्थानों के आसपास की भूमि, जल और वायु भी प्रदूषित होती है। और साथ ही खतरनाक बीमारियां जन्म लेती हैं। लोग इन बीमारियों से बीमार हो जाते हैं, जिससे उनके जीवन में सुख और शांति नहीं आती है। किसी ने बहुत अच्छा लिखा है कि सभी बीमारियों की एक ही दवा रखिये, घर को साफ रखिये।

इसके अलावा, कई गंभीर बीमारियां जैसे मलेरिया, हैजा और डायरिया तब होने की आशंका होती है जब कारखानों और कारखानों से रासायनिक और भौतिक अपशिष्ट नदियों और नहरों में फेंक दिया जाता है। स्वच्छता भी देश के विकास में बाधक है।

क्योंकि जब इस तरह की बीमारी बड़े पैमाने पर फैलेगी तो देश की अर्थव्यवस्था भी प्रभावित होगी। एक अनुमान से पता चलता है कि अकेले भारत में शहरी लोग हर साल 62 मिलियन टन कचरा पैदा करते हैं। लेकिन इससे 43 मिलियन टन कचरा ही इकट्ठा होता है।

और हैरानी की बात यह है कि इस 43 मिलियन टन में से केवल 12 मिलियन टन का ही निपटारा किया जाता है। जबकि 31 मिलियन टन कचरा नगर पालिका द्वारा लैंडफिल साइट में जलाया जाता है। लेकिन बचा हुआ 19 मिलियन टन कचरा इधर-उधर फेंक दिया जाता है। लेकिन उन्हें प्रदूषण फैलाने के लिए क्यों छोड़ दिया जाता है? यह सवाल हमें सरकार से पूछना चाहिए।

कैसे रखें साफ?

  • दुनिया में हर चीज का समाधान है। हमें बस उन उपायों को रोजमर्रा की जिंदगी में लागू करने की जरूरत है। स्वच्छता के भी कई तरीके हैं। बदले में उपाय हम सभी जानते हैं।
  • स्वच्छता के लिए हमें सबसे पहले स्वच्छता के महत्व को समझाना शुरू करना चाहिए।
  • आपको अपने घर के आसपास के क्षेत्र को भी साफ करने की जरूरत है। जो कई रोगों के कीटाणुओं को नष्ट कर देगा।
  • स्वच्छता का सीधा संबंध कपड़ों और भोजन से है। इसलिए हमें अपने खाने-पीने पर विशेष ध्यान देना होगा। अगर हम बाजार से कोई खाना लाते हैं तो उसे साफ करके ही खाना चाहिए।
  • घर में पीने के पानी को हमेशा साफ बर्तन में ढककर रखें ताकि गंदे कीटाणु हमारे पीने के पानी से दूर रहें।
  • हमें अपने शरीर की स्वच्छता का भी ध्यान रखना चाहिए। इसके लिए हमें रोजाना नहाना चाहिए, समय-समय पर अपने नाखून काटने चाहिए और शरीर की गंदगी को दूर करना चाहिए।
  • हमें इन सभी तुकबंदी के बारे में लोगों को समझाने की कोशिश करनी चाहिए। क्योंकि जब तक आम लोग इन बातों को नहीं समझेंगे तब तक देश स्वच्छ नहीं होगा।
  • इसके लिए हमें अधिक से अधिक लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करना होगा।
  • लोगों को स्वच्छता के फायदे और नुकसान के बारे में बताना होगा। स्वच्छता बनाए रखना केवल सरकार का काम नहीं है, इसमें हम सभी नागरिकों को आगे आकर सरकार का समर्थन करना है। तभी हम देश को स्वच्छ बना सकते हैं और विकसित राष्ट्र बनाने के सपने को साकार कर सकते हैं।

स्वच्छता निबंध PDF फाइल कैसे प्राप्त करें? (How to get Swachata Nibandh In Hindi?)

आप Google Chrome  की मदद से इस आर्टिकल को आसानी से PDF फाइल में बदल सकते हैं। आप शायद जानते हैं कि आप प्रिंट विकल्प पर जा सकते हैं और किसी भी HTML पेज को पीडीएफ में बदल सकते हैं। पीडीएफ लेख आप आसानी से ऑफ़लाइन पढ़ सकते हैं, किसी और के साथ साझा कर सकते हैं और अपने फोन में सहेज सकते हैं।

FAQ

स्वच्छता क्यों जरुरी है?

भारत देश अब आगे बढ़ रहा है और हमें भी अपने देश को स्वच्छ रख के उसमे सहयोग करना है, ताकि विदेशी लोग जो यहाँ घूमने आ रहे है वह हमारे देश की अच्छी छाप लेके जाये। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की स्वछता रखने से हम हजारो बिमारिओ से दूर रह सकते है.

स्वछ भारत मिसन किसने शुरू किया है?

हमारे माननीय वडाप्रधान नरेन्द्रजी मोदी ने इस मुहीम की शुरुवात कियी थी और आज भी यह मिशन चल रहा है. आप भी इसका हिस्सा बने और भारत को स्वच्छ बनाये।

Disclaimer

इस आर्टिकल में गलती से हमारी टीम द्वारा कोई भी टाइपिंग एरर हो सकती है. अगर आपको कोई भी ऐसी गलती दिखे तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताये, हम जल्द ही उस गलती को सुधारने का प्रयास करेंगे।

Summary

आशा करता हूँ की आपको “स्वच्छता पर निबंध हिंदी में (Swachata Essay In Hindi)” आर्टिकल बहुत ही उपयोगी और मजेदार लगा होगा। इस स्वच्छता पर निबंध के उदहारण द्वारा आपको अपना एक सुन्दर निबंध लिखना है, ना की सीधा ही रट्टा लगाना है. ऐसी ही हिंदी में मजेदार जानकरी के लिए हमारे ब्लॉग www.hindi-english.net की मुलाकात लेते रहिये और हमें YouTube, Facebook और Instagram पे फोलो करना ना भूले।

Leave a Comment

hindi-english-logo-main

In this website you can find Useful Information, Dictionary, Essay, Kids Learning, Student Material, Stories, Tech Updates, Suvichar and Full Form in Hindi.

Contact us

Address- 17, Einsteinpalais, Friedrichstraße, Berlin Mitte, Berlin, Germany- 10117

hindienglishblog@gmail.com

Mon to Friday
9:00 am to 18:00 pm