15 Best सर्दी, खांसी और जुकाम की दवा (Sardi Khasi Ki Dawa)

हमारे ब्लॉग Hindi-English.net में आपका स्वागत है। आज हम “सर्दी, खांसी, जुकाम, फ्लू की आयुर्वेदिक और घरेलू दवा (Best Home Remedies and Ayurvedic Sardi Khasi Ki Dawa)” नामक एक बहुत ही रोचक विषय देखने जा रहे हैं। इसे दैनिक जीवन की एक आम समस्या माना जा सकता है और लोग इस तरह की छोटी-मोटी समस्याओं से हर दिन पीड़ित होते हैं, भले ही लोग इस तरह की समस्या पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं।

अगर आप भी ऐसी सर्दी-खांसी और जुकाम की आम समस्या से पीड़ित हैं तो यह लेख आपके लिए बहुत काम का हो सकता है। अगर आपको लगता है कि यह समस्या सामान्य है तो भी यह आपके जीवन में और भी कई गंभीर समस्याएं पैदा कर सकती है जिनका आपके शरीर पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

तो चलिए आपका अधिक समय बर्बाद किए बिना हमारे मुख्य प्रश्न के उत्तर की ओर बढ़ते हैं। यहां बताए गए सभी उपाय घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक हैं। यदि आप किसी दवा की तलाश में हैं, तो मुझे लगता है कि आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि बिना डॉक्टर की सलाह के ऐसी दवाएं लेने से दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इस पर आपको विशेष ध्यान देना होगा।

सर्दी, खांसी, जुकाम, फ्लू की आयुर्वेदिक और घरेलू दवा (Best Home Remedies and Ayurvedic Sardi Khasi Ki Dawa)

बदलते मौसम में सबसे बड़ी समस्या खांसी, छींक,और जुकाम है। गले में खराश और फ्लू भी बहुत आम हैं। ऐसे में हम आपको 15 से ज्यादा घरेलू आयुर्वेदिक नुस्खे बता रहे हैं जो आपके लिए सटीक काम करेंगे।

सर्दी, खांसी और जुकाम एक ऐसी समस्या है जो हमेशा हर बदलते मौसम के साथ आती है। खांसी बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण, एलर्जी, साइनस संक्रमण या सर्दी के कारण हो सकती है, लेकिन हमारे देश भारत में लोग हर समस्या के लिए डॉक्टर के पास नहीं जाते हैं। हमारे अपने किचन में कई ऐसे घरेलू नुस्खे छिपे हैं, जो खांसी-जुकाम जैसी छोटी-बड़ी कई बीमारियों से निजात दिला सकते हैं। तो आइए जानते हैं खांसी, जुकाम के 15 से ज्यादा घरेलू नुस्खे।

सामान्यतया आयुर्वेद में खांसी को एक गंभीर समस्या बताया गया है। खांसी अपने आप में एक विकार या किसी बीमारी जैसे ब्रोन्कियल अस्थमा, तपेदिक आदि का लक्षण हो सकती है। बार-बार खांसी किसी श्वसन तंत्र की समस्या के कारण होती है। आयुर्वेद में आमतौर पर खांसी के लिए चिकनाई यानी तेल, वामन कर्म और विरेचन कर्म यानी दस्त के इलाज की सलाह दी जाती है।

विभिन्न प्रकार की खांसी को नियंत्रित करने के लिए उपयोग की जाने वाली जड़ी-बूटियों और दवाओं में पिपली, अदरक, यस्तिमधु यानी मुलेठी, कंटकारी, तुलसी, अमलकी, विभीतकी, अडूसा, हल्दी, सितोपलादि पाउडर, कंटकारी घृत, कफकेतु शामिल हैं। इसके अलावा आप रस, इलादि वटी, पिप्पलादि वटी और त्रिकटु चूर्ण शहद से भी बहुत सारे लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी जरूर पढ़े- आयुर्वेदिक नींद की दवा (Ayurvedic Nind Ki Dawa)

सर्दी खांसी और जुकाम की दवा (Ayurvedic Cough, Sardi Khasi Ki Dawa)

आयुर्वेद ग्रंथों में सर्दी-खांसी के लिए कई तरह के घरेलू उपचार बताए गए हैं। विभिन्न प्रकार की खांसी को नियंत्रित करने के लिए जड़ी-बूटियों और देशी दवाओं का उपयोग किया जाता है। इनमें पीपल, अदरक, तुलसी, हल्दी और शहद शामिल हैं। वैसे तो आपको अलग-अलग आयुर्वेदिक ग्रंथों में अलग-अलग उपचार मिलेंगे, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण यह है कि कौन सा उपचार फर्क पड़ता है और आपको राहत देता है।

कोरोना जैसे महामारी के बाद आप जानते होंगे कि आयुर्वेद में गर्म पानी को कई बीमारियों का इलाज माना जाता है। इसमें खांसी भी शामिल है। गर्म पानी की थोड़ी सी मात्रा पीने से तुरंत गले की खराश दूर हो जाएगी और मल के माध्यम से कफ भी बाहर निकल जाएगा। इसके अलावा पानी में नमक मिलाकर पीने से भी हर तरह की खांसी ठीक हो जाती है।

शहद के एंटी-बैक्टीरियल गुण खांसी से जल्दी राहत दिलाते हैं। शहद को चाटने से ही खांसी दूर होती है। रात को सोने से पहले 1 चम्मच शहद पिएं। वहीं, शहद का इस्तेमाल करने का एक तरीका यह है कि आधा चम्मच शहद में थोड़ी सी इलायची और नींबू का रस मिलाकर दिन में 3 बार लें जिससे खांसी जैसी समस्या से काफी राहत मिलेगी।

ayurvedic sardi khasi ki dawa- आयुर्वेदिक सर्दी खांसी और जुकाम की दवा
ayurvedic sardi khasi ki dawa- आयुर्वेदिक सर्दी खांसी और जुकाम की दवा

अदरक के टुकड़े को शहद में मिलाकर चबाने से भी ऐसी समस्याओं से तुरंत राहत मिलती है। अदरक का उपयोग करने का दूसरा तरीका अदरक का रस निकालना और इसे शहद की कुछ बूंदों के साथ पीना है।

दूध में हल्दी मिलाकर पीने से सर्दी-खांसी में बहुत लाभ होता है और साथ ही यह खांसी में भी कारगर है। हल्दी के एंटी-बैक्टीरियल गुण ऐसे मामलों में तुरंत राहत प्रदान करते हैं। सुबह गर्म दूध पीने से खांसी में आराम मिलता है। ध्यान रहे कि सिर्फ दूध ही नहीं पीना चाहिए बल्कि आप इसमें शहद और थोड़ी सी हल्दी भी मिला सकते हैं।

खांसी से राहत पाने के लिए लहसुन की कली और लौंग को कच्चा चबाएं। यदि आप सामग्री को चबा नहीं सकते हैं, तो इसे धीमी आंच पर भूनें। लहसुन को पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर पीने से भी खांसी दूर होती है। स्वाद के लिए यहां थोड़ा शहद भी मिलाया जा सकता है।

तुलसी का काढ़ा न सिर्फ शरीर को गर्माहट देता है बल्कि खांसी में भी राहत देता है। अदरक, काली मिर्च और तुलसी के पत्तों को एक साथ उबाल लें और रोज सुबह इसका सेवन करें।

कफ के साथ खांसी के लिए काली मिर्च को देसी घी में मिलाकर सेवन करें। काली मिर्च के पाउडर को घी में भून लें। इस मिश्रण को दिन में 3 से 4 बार खाएं। इसे दूध में मिलाकर भी पिया जा सकता है। 2 दिन में आपको खांसी में आराम मिलेगा।

खांसी और कफ की कोई भी अंग्रेजी दवा खुद न लें, क्योंकि इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं। हालांकि आयुर्वेदिक दवा के कोई साइड इफेक्ट नहीं होते हैं, लेकिन अगर यह समस्या लंबे समय तक बनी रहती है, तो किसी मान्यता प्राप्त आयुर्वेद चिकित्सक से उचित इलाज कराएं।

आप शहद, नींबू और इलायची का मिश्रण भी ले सकते हैं जहां आधा चम्मच शहद में एक चुटकी इलायची पाउडर और नींबू के रस की कुछ बूंदें मिलाएं। इस सिरप को दिन में दो बार पिएं। सर्दी-खांसी में आपको काफी राहत मिलेगी।

अन्य सर्दी खांसी और जुकाम के घरेलु उपचार (Other Useful Cough, Sardi Khasi Ki Dawa)

  • गर्म पानी- जितना हो सके गर्म पानी पिएं। आपके गले में खांसी खुल जाएगी और आपको खांसी में भी अच्छा महसूस होगा।
  • तुलसी- तुलसी के पान को सर्दी खासी के लिए एक बहोत ही अच्छा उपचार माना जाता है और यह आपको फ्री में आपके घर पर ही मिल जाते है. इसका उपयोग आप अलग अलग तरह से कर सकते है, जैसे की चाय, काढ़ा या अन्य खुराक के साथ.
  • हल्दी वाला दूध- सर्दी के मौसम में दादी हर दिन घर के बच्चों को हल्दी वाला दूध पिलाती थीं। सर्दी जुकाम में हल्दी वाला दूध बहुत फायदेमंद होता है, क्योंकि हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो हमें कई तरह के कीटाणुओं से बचाते हैं। रात को सोने से पहले इसे पीने से जल्दी आराम मिलता है। हल्दी में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण होते हैं जो संक्रमण से लड़ते हैं। इसके विरोधी भड़काऊ गुण खांसी, कफ और सर्दी के लक्षणों से छुटकारा दिलाते हैं।
  • गर्म नमक वाले पानी से कुल्ला करें- गर्म पानी में एक चुटकी नमक मिलाकर कुल्ला करने से खांसी-जुकाम में तुरंत आराम मिलता है। यह गले को शांत करता है और खांसी से भी राहत देता है। यह भी एक बहुत पुरानी आयुर्वेदिक औषधि है।
  • शहद और ब्रांडी- ब्रांडी पहले से ही शरीर को गर्म करने के लिए जानी जाती है। इसमें शहद मिलाकर पीने से सर्दी-जुकाम में बहुत फायदा होगा। लेकिन गुजरात में हम मुख्य रूप से शराब का सेवन नहीं करते हैं और यहां तक ​​कि हमें वह मिलता भी नहीं है।
  • मसालेदार चाय- अपनी चाय में अदरक, तुलसी, काली मिर्च मिलाकर चाय पिएं। इन तीनों तत्वों के सेवन से सर्दी-खांसी में काफी आराम मिलता है।
  • आंवला- आंवला विटामिन सी से भरपूर होता है जो रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और इसमें एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं।
  • अदरक और तुलसी- अदरक के रस में तुलसी मिलाकर सेवन करें। स्वाद के लिए शहद भी मिला सकते हैं।
  • अलसी- अलसी के बीजों को गाढ़ा होने तक उबालें और इसमें नींबू का रस और शहद मिलाएं। सर्दी-खांसी से राहत मिलेगी।
  • अदरक और नमक- अदरक को छोटे छोटे टुकड़ों में काट कर नमक डाल दीजिये. इसे खाएं, इसका रस आपका गला खोल देगा और नमक कई कीटाणुओं को मार देगा।
  • लहसुन- लहसुन को घी में भूनकर गर्मागर्म खाएं। यह स्वाद में बहुत तीखा हो सकता है, लेकिन सेहत के लिए बिल्कुल लाजवाब।
  • गेहूं का चोकर- आप सर्दी और खांसी के इलाज के लिए भी गेहूं का उपयोग कर सकते हैं। पानी में 10 ग्राम गेहूं का चोकर, पांच लौंग और थोड़ा सा नमक मिलाकर उबाल लें। एक कप इसका काढ़ा पीने से आपको तुरंत आराम मिलेगा। हालांकि, सर्दी आमतौर पर हल्की होती है, जिसके लक्षण एक सप्ताह या उससे कम समय तक रहते हैं। गेहूं की भूसी का इस्तेमाल करने से आपको ऐसी समस्या से निजात मिल जाएगी।
  • अनार का रस- अनार के रस में थोड़ा सा अदरक और पपीते का चूर्ण मिलाकर पीने से खांसी में आराम मिलता है।
  • काली मिर्च- खांसी के साथ लार हो तो आधा चम्मच काली मिर्च देसी घी में मिलाकर खाएं। आपको जल्द ही राहत मिलेगी।
  • गर्म भोजन का सेवन- सूप, चाय, गर्म पानी। ठंडे पानी, मसालेदार भोजन आदि से परहेज करें।
  • गाजर का रस- यह आपको थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन खांसी-जुकाम में गाजर का रस बहुत फायदेमंद होता है, लेकिन इसका सेवन बर्फ या ठंडे भोजन के साथ न करें.

खांसी, जुकाम, फ्लू के लिए डॉक्टर से कब संपर्क करें? (When to consult a doctor for Cold and Cough?)

यदि आपको या आपके बच्चे को सर्दी है, तो आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह आमतौर पर एक या दो सप्ताह में ठीक हो जाता है। ऋतु परिवर्तन और सर्दी के मौसम में ठंड के मौसम के कारण ऐसी बीमारियां अधिक होती हैं, जो सामान्य घरेलू उपचार से कुछ ही दिनों में गायब हो जाती हैं।

यदि ऐसे लक्षण तीन सप्ताह से अधिक समय तक रहते हैं, तो भी आपका स्वास्थ्य अचानक खराब हो जाता है, आपको सांस लेने में परेशानी हो रही है, आपको सर्दी है, जैसे कि खांसी होने पर सीने में दर्द या खून का थक्का, अगर आप अपने बच्चे या बुजुर्गों के बारे में चिंतित हैं। यदि आप चिंतित हैं या आपको फेफड़े की बीमारी जैसी कोई पुरानी बीमारी है तो डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा है। ऐसी किसी भी स्थिति में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

FAQ

सर्दी खांसी की दवा सिरप कोनसी लेनी चाहिए?

आप पेरासिटामोल या टोरेक्स कफ सिरफ का इस्तेमाल कर सकते है, जब की यह सभी दवाइयों का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के अनुसार करना चाहिए।

सर्दी-जुकाम की एंटीबायोटिक दवा कोनसी है?

यह रोग वाइरस से होता है तो शायद एंटीबायोटिक दवा आपके लिए इतनी कारगर साबित नहीं होगी। फिर भी आप डॉक्टर से एक बार जरूर मिले।

सर्दी खांसी की टेबलेट का नाम क्या है?

विक्स, डी कोल्ड या पेरासिटामोल का इस्तेमाल कर सकते है, जो आपके नजदीकी मेडिकल स्टोर में आसानी से मिल सकती है.

सर्दी खांसी की अंग्रेजी दवा कहा मिलेगी?

इससे जुडी कफ सिरप या टेबलेट आपको आपके नजदीकी मेडिकल स्टोर में आसानी से मिल सकती है.

पतंजलि सर्दी खांसी की दवा कीतिनि कारगर है?

यह आयुर्वेदिक दवा है और जरूर आपको ऐसी समस्या से आराम देगी।

सर्दी खांसी की दवा बच्चों के लिए कोनसी है?

हलाकि इन्फेंट कोल्ड सिरप बच्चो को दिए जाती है, पर इस मामले में आपको जरूर डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

1 दिन में जुकाम कैसे ठीक करें?

आप तुलसी और गर्म पानी से इस समस्या से थोड़ी राहत पा सकते है. लेकिन फार्मा दवाई ही आपको सबसे जल्दी ऐसी बीमारियों को ठीक करने में मदद कर सकती है.

जुकाम होने के फायदे?

इसका कोई खास फायदा नहीं है, हालांकि मौसम या अन्य कारक बीमारी से लड़ने की आपकी क्षमता को मजबूत हो सकता हैं।

Disclaimer

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों या जड़ी बूटियों का आमतौर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है, हालांकि आयुर्वेदिक चिकित्सक से मिलके आपको यह पता लगाना होगा कि उस जड़ी बूटी को कैसे और कितनी मात्रा में लेना है। यहां बताई गई आयुर्वेदिक दवा लेने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह जरूर लें।

Summary

आशा करता हूँ की आपको “सर्दी, खांसी, जुकाम, फ्लू की आयुर्वेदिक और घरेलू दवा (Best Home Remedies and Ayurvedic Sardi Khasi Ki Dawa)” आर्टिकल बहुत ही उपयोगी और मजेदार लगा होगा। ऐसी ही हिंदी में मजेदार जानकरी के लिए हमारे ब्लॉग www.hindi-english.net की मुलाकात लेते रहिये और हमें YouTube, Facebook और Instagram पे फोलो करना ना भूले।

Leave a Comment

hindi-english-logo-main

In this website you can find Useful Information, Dictionary, Essay, Kids Learning, Student Material, Stories, Tech Updates, Suvichar and Full Form in Hindi.

Contact us

Address- 17, Einsteinpalais, Friedrichstraße, Berlin Mitte, Berlin, Germany- 10117

hindienglishblog@gmail.com

Mon to Friday
9:00 am to 18:00 pm