आयुर्वेदिक नींद की दवा (Ayurvedic Nind Ki Dawa)

हमारे ब्लॉग Hindi-English.net में आपका स्वागत है। आज हम “घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक नींद की दवा (Ayurvedic Nind Ki Dawa and Gharelu Upchar)” नामक एक बहुत ही रोचक विषय देखने जा रहे हैं। इसे दैनिक जीवन की एक आम समस्या माना जा सकता है और लोग इस तरह की छोटी-मोटी समस्याओं से हर दिन पीड़ित होते हैं, भले ही लोग इस तरह की समस्या पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं।

अगर आप भी इस आम समस्या से पीड़ित हैं तो यह लेख आपके लिए काफी उपयोगी साबित हो सकता है। अगर आप इस सामान्य समस्या को समझ भी लें ते हे पर यह आपके जीवन में और भी कई गंभीर समस्याएं पैदा कर सकती है। रात में पर्याप्त नींद न लेने से आपके शरीर को पूर्ण आराम नहीं मिलता है, जिसका आपके स्वभाव और शरीर पर बहुत ही विशेष प्रभाव पड़ सकता है।

तो चलिए अधिक समय बर्बाद करने के बजाय आपके प्रश्न के उत्तर की ओर बढ़ते हैं। यहां बताए गए सभी नींद के उपाय घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक हैं। यदि आप फार्मास्युटिकल दवा की दवा की तलाश में हैं, तो आपको किसी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि बिना डॉक्टर की सलाह के ऐसी दवाएं लेने से आपको साइड इफेक्ट हो सकते हैं। इसका खास ख्याल रखें।

घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक नींद की दवा (Ayurvedic Nind Ki Dawa and Gharelu Upchar)

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग नींद से वंचित होते जा रहे हैं। कुछ लोगों को रात में ठीक से नींद नहीं आती है, तो कुछ को सो जाने पर दोबारा सोना मुश्किल हो जाता है। कुछ लोग न चाहते हुए भी सुबह जल्दी उठ जाते हैं। यदि यह समस्या कुछ दिनों, हफ्तों या उससे अधिक समय तक बनी रहती है, तो आप अनिद्रा से पीड़ित हो सकते हैं।

यदि यह समस्या बनी रहती है, तो जल्द ही डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए और अपनी दिनचर्या में सुधार करना सबसे अच्छा हो सकता है। संतुलित अवस्था में सब कुछ करना, खासकर नींद लेना किसी के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। स्वस्थ शरीर के लिए पर्याप्त नींद जरूरी है।

अनिद्रा आज कल एक आम समस्या हो गई है। बेहतर नींद के लिए लोग नींद की गोलियां लेना शुरू कर देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि नींद की गोलियां हमारे शरीर को कितनी बुरी तरह प्रभावित करती हैं? ऐसे में क्या करें जिससे नींद भी आए और कोई बुरा असर न पड़े।

इस प्रश्न का एक ही उत्तर है, “आयुर्वेद।” तो आइए जानते हैं इसके उपचार के बारे में कई आयुर्वेदिक विशेषज्ञों का कहना है कि आयुर्वेद में आहार, निद्रा और ब्रह्मचर्य में जीवन के तीन स्तंभों का उल्लेख किया गया है। इनमें से किसी एक के बिना जीवन नहीं चल सकता। इनमें से नींद का विशेष महत्व है।

व्यस्त और तनावपूर्ण दिनचर्या के कारण अनिद्रा की समस्या आम हो गई है। आधुनिक जीवन शैली के दबाव के कारण आज लाखों लोग अनिद्रा से पीड़ित हैं। इस कारण कई लोग अन्य कई तरह की बीमारियों से ग्रसित हो जाते हैं।

ayurvedic nind ki dawa- घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक नींद की दवा
ayurvedic nind ki dawa- घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक नींद की दवा

नींद क्या होती हे?

आयुर्वेद में व्यक्ति का स्वास्थ्य वात, पित्त और कफ के संतुलन पर निर्भर करता है, इसलिए इन दोषों में असंतुलन के कारण कोई भी समस्या उत्पन्न होती है। वाणी असंतुलन मुख्यतः अनिद्रा में पाया जाता है। वात दोष के कारण सोने की कोशिश करने के बाद भी व्यक्ति सो नहीं पाता है और व्यक्ति का मन लगातार पिछली घटनाओं के बारे में सोचता रहता है।

इंसान के मन में कई तरह की चिंताएं रहती हैं। वात दोष की असामान्य तीव्रता के कारण उसका मन बेचैन और अस्थिर रहता है। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति को खांसी की समस्या हो जाती है तो वह काफी देर तक सोने के बाद भी सुस्ती और थकान महसूस करेगा।

अनिद्रा क्या है?

अनिद्रा का अर्थ है सोने में परेशानी होना या रात को नींद न आना। इसका एक रूप अनिद्रा है, जिसका अर्थ है सोने में कठिनाई या बहुत जल्दी जागना और फिर से सो जाना मुश्किल हो जाता है। पर्याप्त नींद न लेने से चिंता बढ़ जाती है, जिसका मनुष्यों में मासिक धर्म पर अधिक प्रभाव पड़ता है और यह चक्र चलता रहता है। आप शायद नहीं जानते होंगे लेकिन अनिद्रा का सीधा संबंध उच्च रक्तचाप, हृदय गति रुकने, मधुमेह और अन्य बीमारियों से भी होता है।

अनिद्रा जैसे प्रश्न क्यों उठते हैं?

जीवनशैली की आदतों के कारण अनिद्रा जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है। अनिद्रा को आमतौर पर एक लक्षण के रूप में देखा जाता है। अनिद्रा या सोने में कठिनाई यह संकेत दे सकती है कि आप मानसिक रूप से परेशान या बेचैन हैं। मानसिक विकार वाले लोगों को अक्सर सोने में कठिनाई होती है।

अच्छी नींद लेने के उपाय (Ways to get better sleep)

अनिद्रा का मुख्य कारण अत्यधिक तनाव है। इसके अलावा अनियमित दिनचर्या, शारीरिक व्यायाम की कमी और कड़ी मेहनत, ज्यादा शराब पीने से भी नींद नहीं आती है। उम्र के साथ, नींद की समस्या बदतर हो सकती है। कई बार नींद की कमी की समस्या इतनी गंभीर हो जाती है कि यह हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर अधिक प्रभाव डालती है। आयुर्वेद के अनुसार वात और पित्त के बढ़ने से अनिद्रा की समस्या होती है। नींद की समस्या को निम्नलिखित उपायों से दूर किया जा सकता है।

  • रात को अच्छी नींद लेने के लिए हर रोज सोने से पहले शॉवर लें।
  • रात को अच्छी नींद के लिए हाथ-पैर साफ करें और सोने से पहले तलवों की मालिश करें।
  • अनिद्रा की समस्या में भी योग, अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने से बहुत लाभ होता है।
  • सोने का समय समायोजित करें, इस नींद और शरीर के विकास चक्र को संतुलित करना अधिक महत्वपूर्ण है।
  • अपने बेडरूम को साफ रखें। बेडरूम को शांत और अंधेरा रखें। इससे दिमाग शांत होगा और नींद भी आसान होगी।
  • इसे रोजाना नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत बनाएं, इससे अच्छी नींद लेने में मदद मिलती है। व्यायाम आपके तन और मन दोनों को स्वस्थ रखता है।
  • देर रात की पार्टियों और टीवी देखने से बचें। दिन में सोने से बचें, ताकि रात को सोने में आसानी हो।
  • रात को सोते समय सकारात्मक विचार रखें। जीवन में किसी भी दुख, समस्या या चीज की चिंता न करें।
  • यदि आप सो नहीं सकते हैं, तो बिस्तर पर न जाएं। शयन कक्ष का प्रयोग केवल सोने के लिए करें। बिस्तर पर सोने का इंतजार न करें।
  • एक या दो बजे के बाद कैफीनयुक्त खाद्य पदार्थों से बचें।
  • शराब सीमित करें और सोने से दो घंटे पहले शराब न पिएं।
  • नियमित एरोबिक व्यायाम जैसे चलना, जॉगिंग या तैराकी में भाग लें।
  • जिन मिनटों में आप सो नहीं सकते, उन पर नज़र रखने से आपको फिर से सोना मुश्किल हो सकता है। अगर आपको नींद आ रही है तो घड़ी को अपनी आंखों से हटा लें।
  • एक या दो सप्ताह के लिए अपनी नींद के पैटर्न में सुधार करें।
  • अगर आपको ऐसा लगता है कि आप अपना 80 प्रतिशत से अधिक समय बिना सोए बिस्तर पर बिता रहे हैं, तो इसका मतलब है कि आप बिस्तर पर अधिक समय बिता रहे हैं। बाद में सोने की कोशिश करें और दिन में न सोएं। अगर आप शाम को जल्दी सो जाते हैं, तो लाइट जलाएं।
  • अगर आपका दिमाग सोचने में व्यस्त है या आपकी मांसपेशियां तनावग्रस्त हैं, तो आपको सोने में परेशानी हो सकती है। मन को शांत करने और मांसपेशियों को आराम देने के लिए कोई भी ध्यान, गहरी सांस या योग कर सकता है।

आयुर्वेदिक नींद की दवा(Ayurvedic Nind Ki Dawa)

नीचे आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के बारे में कुछ जानकारी दी गई है जो अनिद्रा की स्थिति में आपकी मदद करेगी। आप इन सभी आयुर्वेदिक नींद की गोलियों को नजदीकी स्थानीय दवा की दुकान पर आसानी से पा सकते हैं। हालांकि एक बार आप किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

  • अश्वगंधा के चूर्ण को रोजाना दूध के साथ लेने से अनिद्रा की समस्या से राहत मिलती है।
  • आप रात को सोने से पहले सर्पेन्टाइन पाउडर को 1 गिलास पानी के साथ ले सकते हैं।
  • ब्राह्मी, शंखपुष्पी आदि आयुर्वेदिक औषधियों का नियमित सेवन करें।
  • शिरोधारा और शिरोबस्ती पंचकर्म आयुर्वेदिक औषधि अनिद्रा जैसी समस्याओं में अभूतपूर्व लाभ प्रदान करती है।
  • अश्वगंधा प्राचीन काल से हमारे जीवन में आयुर्वेदिक प्रणाली में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इसे सबसे अधिक औषधीय उपयोग वाला पेड़ माना जाता है। यह शरीर को चुस्ती-फुर्ती प्रदान करता है। अश्वगंधा को आयुर्वेदिक टॉनिक कहा जाता है, क्योंकि यह शारीरिक सहनशक्ति और स्वास्थ्य को बढ़ाता है। अश्वगंधा को अंग्रेजी में इंडियन जिनसेंग कहते हैं।

अश्वगंधा के पेड़ और इसके औषधीय गुणों का वर्णन पारंपरिक चीनी चिकित्सा और आयुर्वेद दोनों में किया गया है। अश्वगंधा प्रकृति द्वारा दिया गया एक उपहार है जिसका उपयोग हम आज भी कई तरह के रोग और सुंदरता बढ़ाने के लिए करते हैं। अश्वगंधा से तनाव, चिंता, थकान, नींद की कमी जैसी समस्याओं का प्रभावी ढंग से इलाज किया जा सकता है। यह तनाव हार्मोन कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है, जिससे तनाव कम होता है।

अनिद्रा के लिए डॉक्टर से कब संपर्क करें? (When to consult a doctor for insomnia?)

जैसा कि हम यहां लेख में पहले ही बता चुके हैं कि अनिद्रा एक आम समस्या है लेकिन शरीर और दिमाग पर इसका गंभीर प्रभाव पड़ता है। यहां बताए गए सभी उपायों और आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को अपनाने के लिए अगर तंत्रिका अनिद्रा में कोई राहत या सुधार न हो तो किसी विशेषज्ञ की सलाह लेना बहुत जरूरी है।

मानसिक तनाव या अत्यधिक चिंता जरूरी नहीं कि अनिद्रा का कारण हो। आपने “अनिद्रा”, “स्लीपिंग डिसऑर्डर” नाम सुना होगा, यदि आप लंबे समय से बाहर हैं और अनिद्रा की समस्या बढ़ रही है, तो आपके लिए तुरंत एक विशेषज्ञ डॉक्टर के पास जाना और विशिष्ट उपचार की तलाश करना महत्वपूर्ण है।

FAQ

Neend ki tablet कोनसी लेनी चाहिए?

मेरी सलाह के अनुसार बन सके तो आपको नहीं लेनी चाहिए, क्यों की इसके कही सारे साइड इफेक्ट है. इससे पाचनतंत्र और किडनी को असर हो सकती है.

Neend ki tablet name and price?

Alprax, Zolet, Cloze इत्यादि दवाइए मार्किट में आसानी से उपलब्ध है, जिसकी कीमत 100 रुपये के आसपास है.

सबसे अच्छी गहरी नींद की दवा कोनसी है?

अगर आयुर्वेदिक उपचार की बात करे तो अश्वगंधा आपको फायदा दे सकता है, इसके अलावा Alprax जैसी फार्मास्युटिकल दवाई भी है जो नींद में मदद करती है, जो डॉक्टर की सलाह से लेनी चाहिए।

नींद की गोली खाने से क्या होता है?

इसके कही सारे साइड इफेक्ट है, इससे आपके पाचन तंत्र और किडनी को असर हो सकती है. मेरी सलाह माने तो आपको आयुर्वेदिक उपचार को ट्राई करना चाहिए, जिसके साइड इफेक्ट कम होते है.

गहरी नींद की आयुर्वेदिक दवा कोनसी है?

हलाकि भारतीय बाजार में कही प्रकार की टेबलेट उपलब्ध है, जैसे की Alprax, Zolet, Cloze इत्यादि। पर हमारी सलाह माने तो एक बार अपनी समस्या किसी अच्छे डॉक्टर को दिखाए, जिससे की कोई साइड इफेक्ट का सामना ना करना पड़े. ऐसी सेंसेटिव टेबलेट आपको यूट्यूब या ऑनलाइन जानकरी प्राप्त करके नहीं लेनी चाहिए।

नींद की गोली कितनी खानी चाहिए?

हलाकि हम इसकी सलाह नहीं देते, क्यों की फार्मास्युटिकल नींद की गोली के काफी साइड इफेक्ट होते है. लेकिन आपको यह गोली किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लेके खानी चाहिए, जिससे की आप भविष्य में किसी मुसीबत में ना पड़े.

नींद नहीं आती उपाय क्या है?

आप अश्वगंधा का इस्तेमाल कर सकते है और आपको सोने से पहले अच्छी तरह से नहाना है, इससे आपकी समस्या में काफी सुधार आएगा।

ऑनलाइन नींद की गोली कैसे ख़रीदे?

अगर आपके पास डॉक्टर की प्रिस्क्रिप्शन है, तो आप NetMeds, 3Mg और कही और अलग अलग ऑनलाइन मेडिसिन शॉप से अपने घर पर दवा मगावा सकते है.

Disclaimer

आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का आमतौर पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है, हालांकि आयुर्वेदिक चिकित्सक को यह पता लगाने की जरूरत है कि उस जड़ी-बूटी को कैसे और किस अनुपात में लेना है। यहां बताई गई आयुर्वेदिक दवा लेने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह जरूर लें।

Summary

मुझे उम्मीद है कि लेख “घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक नींद की दवा (Ayurvedic Nind Ki Dawa and Gharelu Upchar)” आपके लिए उपयोगी होगा और सभी पाठकों को यह बहुत पसंद आएगा। इस तरह की उपयोगी जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.hindi-english.net पर विजिट करते रहें और हमें YouTube, Facebook और Instagram पे फोलो करना ना भूले।

Leave a Comment

hindi-english-logo-main

In this website you can find Useful Information, Dictionary, Essay, Kids Learning, Student Material, Stories, Tech Updates, Suvichar and Full Form in Hindi.

Contact us

Address- 17, Einsteinpalais, Friedrichstraße, Berlin Mitte, Berlin, Germany- 10117

hindienglishblog@gmail.com

Mon to Friday
9:00 am to 18:00 pm