भगवान शिव के 108 नाम (108 Names of Shiv in Hindi With PDF)

हमारे ब्लॉग Hindi-English.net में आपका स्वागत है। आज हम “भगवान शंकर, महादेव, शिव के 108 नाम और इसका अर्थ- शिव अष्टोत्तर शत नामावली (108 Names of Shiv in Hindi With Shiv Ashtottara Sata Namavali PDF)” नामक एक बहुत ही रोचक विषय देखने जा रहे हैं। आपने और भी कई जगह गूगल में सर्च की होगी, लेकिन इतनी उपयोगी और सटीक हिंदी मेंजानकारी आपको कहीं नहीं मिलेगी।

भगवान शिव को आमतौर पर भोलेनाथ के नाम से जाना जाता है क्योंकि महादेव सभी देवी देवताओं में से भोले हैं और सबसे तेज गति से प्रसन्न होते हैं लेकिन आप उनका नाम और उनका जप नहीं जानते। तो आज के इस लेख में हम हिंदी में उनके नाम और अर्थ के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे।

आमतौर पर आपको हमारे ब्लॉग में अधिकांश जानकारी हमारी क्षेत्रीय भाषा हिंदी में मिल जाएगी और कुछ जानकारी यहां अंग्रेजी भाषा में भी होगी। इसलिए ताजा जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग पर नियमित रूप से विजिट करते रहें। साथ ही श्रीकृष्ण के 108 नामों और उनके अर्थ के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

यह भी जरूर पढ़े-1000 विज्ञान के रोचक तथ्य (Amazing Science Facts In Hindi)

भगवान शंकर, महादेव, शिव के 108 नाम और इसका अर्थ- शिव अष्टोत्तर शत नामावली (108 Names of Shiv in Hindi With Shiv Ashtottara Sata Namavali PDF)

शंकर या महादेव संस्कृति में सबसे महत्वपूर्ण देवताओं में से एक हैं, जो बाद में सनातन धर्म शिव के रूप में जाने गए। वह तीन देवताओं में से एक है। उन्हें अक्सर देवों के देव महादेव कहा जाता है, इसके अलावा उन्हें भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ आदि नामों से भी जाना जाता है।

तंत्र मंत्र विद्या में उन्हें भैरव के नाम से भी जाना जाता है। शिव हिंदू धर्म में प्रमुख देवताओं में से एक हैं, उनका नाम वेदों में रुद्र के रूप में वर्णित है। उस व्यक्ति की चेतना की सबसे दूर की आवाज। उनकी उपपत्नी का नाम पार्वती माता है। उनके बेटे कार्तिकेय, अय्यपा और गणेश हैं, और बेटियां अशोक सुंदरी, ज्योति और मनसा देवी हैं।

आपने ज्यादातर चित्रों में शिव को योगी के रूप में देखा होगा और इस देवता की पूजा शिवलिंग और मूर्ति दोनों के रूप में की जाती है। जबकि नाग देवता शाक्षत शिव के गले में विराजमान हैं और उनके हाथ में डमरू और त्रिशूल हैं। उनका घर कैलाश पर्वत है, हिंदू धर्म में शिव के साथ सभी रूपों में शक्ति की पूजा की जाती है।

भगवान शिव के 108 नाम का लिस्ट (List of 108 Names of Shiv in Hindi)

  1. शिव – हमेशा शुद्ध।
  2. महेश्वर- भगवान के भगवान।
  3. भोलेनाथ– भोला भगवान जो जल्दी प्रसन्न होते हैं।
  4. संभु– समृद्धि देने वाले भगवान।
  5. पिनाकिन – जिसके हाथ में धनुष होता है।
  6. शशिशेखर – अपने बालों में अर्धचंद्र धारण करने वाले देवता।
  7. वामदेवाय– जिसे भगवान हर तरह से प्रसन्न होते हैं।
  8. विरुपाक्ष– तिरछी आंखों वाले भगवान शिव।
  9. कपार्डी – जटा के साथ बालों वाले भगवान।
  10. नीलोहित – लाल और नीले रंग के देवता।
  11. शंकर – सुख-समृद्धि देने वाले।
  12. शूलपानी – जिसमें त्रिशूल होता है।
  13. खटवांगी – चट्टान पर तपस्या करने वाले भगवान। (खटवांगा)
  14. विष्णुवल्लभ – जो भगवान विष्णु को प्रिय है।
  15. शिपिविष्ठ – भगवान जिसका रूप प्रकाश की महान किरणों से परे है
  16. श्रीकांत – गर्वित गर्दन वाले भगवान।
  17. भक्तवल्लभ – एक भगवान जो अपने भक्तों के प्रति अनुकूल रवैया रखते हैं।
  18. भव – जो स्वयं ईश्वर का अस्तित्व है।
  19. शरवा – सभी परेशानियों को दूर करने वाला।
  20. त्रिलोकेश – तीनों लोकों के स्वामी।
  21. सित्तिकंठ – सफेद गर्दन वाले भगवान।
  22. शिवप्रिया – पार्वती की पसंदीदा।
  23. उग्र – वह जो बहुत उग्र स्वभाव का हो।
  24. कपाली– वह जो खोपड़ी का हार पहनता है।
  25. कामारी – कामदेव का शत्रु।
  26. सुरकासुर सूदान – राक्षसी अंधकार का नाश करने वाले देवता।
  27. गंगाधर – भगवान जो गंगा नदी को अपने बालों में धारण करते हैं।
  28. ललताक्ष – एक देवता जिसके माथे पर एक आँख है।
  29. कालकाल -मृत्यु के भी मृत्यु
  30. कृपानिधि – भगवान जो करुणा का खजाना है।
  31. भीम – जिसका भयानक रूप है।
  32. परशुहस्त – भगवान जिसके हाथ में कुल्हाड़ी है।
  33. ओरियन – भगवान जिसके हाथ में हिरण है।
  34. जटाधर – जटा रखने वाले भगवान।
  35. कैलाशवासी – कैलाश के मूल निवासी।
  36. कवची – भगवान जिसके पास कवच है।
  37. कठोर – मजबूत शरीर वाला भगवान।
  38. त्रिपुरांका – भगवान जिसने त्रिपुरासुर का वध किया।
  39. वृषांक – भगवान जिसके पास बैल के प्रतीक के साथ एक झंडा है।
  40. वृषभारूढ़ – जिसका वाहन बैल हो।
  41. भस्मोधुलिट विग्रह – जो पूरे शरीर को जला देता है।
  42. सम्प्रिया – समानता से प्रेम करने वाली।
  43. स्वरयामी – सभी सात ब्रह्मांडों में रहने वाले भगवान।
  44. त्रिमूर्ति – जिसका वैदिक रूप है।
  45. अनीश्वर – जिसका कोई भगवान नहीं है।
  46. सर्वज्ञ – जो सब कुछ जानता है।
  47. परमात्मा – सबकी अपनी आत्मा।
  48. सोमसूर्यग्निलोचन – जिनकी आंखें सूर्य, चंद्रमा और अग्नि के रूप में हैं।
  49. हवी – जो यज्ञ के रूप में धनी हो।
  50. यममाया – सभी यज्ञों का सार।
  51. सोम – जिसमें उमा का रूप होता है।
  52. पंचवकल – पांच गतिविधियों के देवता।
  53. सदाशिव – जो शाश्वत और शुभ है।
  54. विश्वेश्वर – ब्रह्मांड के भगवान।
  55. वरभद्र – जो हिंसक है, लेकिन शांतिपूर्ण भी है।
  56. गणनाथ – गणन भगवान।
  57. प्रजापति – जो वंश के निर्माता हैं।
  58. हिरण्यरेता – वह जो सुनहरी आत्माएं पैदा करता है।
  59. दुघर्ष – जो अजेय है।
  60. गिरीश – पर्वतों के स्वामी।
  61. गिरीशेश्वर – भगवान जो कैलाश पर्वत पर सोते हैं।
  62. अंबिकानाथ– पार्वती के पति
  63. भुजंगभूषण – स्वर्ण सर्प से सुशोभित भगवान।
  64. भार्ग – भगवान जो सभी पापों का अंत करते हैं।
  65. गिरिधर्वा – भगवान जिसका अस्त्र पर्वत है।
  66. गिरिप्रिया – पहाड़ों के प्रिय भगवान।
  67. कृतिवास – वह जो हाथी की खाल को वस्त्र के रूप में पहनता है।
  68. पुरारती – बाढ़ को मारने वाले भगवान।
  69. भगवान – समृद्धि के देवता।
  70. परंथाधिप – भूतों के देवता।
  71. मृत्युंजय – मृत्यु के विजेता।
  72. सुक्ष्मत्नु – सूक्ष्म शरीर वाले भगवान।
  73. जगघवापी – पूरे विश्व में रहने वाले भगवान।
  74. जगतगुरु – सभी संसारों के गुरु।
  75. ब्योमकेश – जिसके बाल आकाश में फैले होते हैं।
  76. महासेनजनक – कार्तिक्य के पिता।
  77. चारुविक्रम – भटकते तीर्थयात्रियों के संरक्षक।
  78. रुद्र – जो भक्तों की पीड़ा से दुखी होता है।
  79. भूतपति – पंचभूत या भूतों के देवता।
  80. स्थानु – दृढ़ और अचल देवता।
  81. अहिब्रुध्या – वह व्यक्ति जिसके पास कुंडलिनी है।
  82. दिगंबर – जो भगवान का श्रंगार है।
  83. अष्टमूर्ति – आठ रूपों वाले भगवान।
  84. अनेकात्मा – ईश्वर जिसके अनेक रूप हैं।
  85. सात्विक – अनंत ऊर्जा के भगवान।
  86. सुद्धाग्रह – शुद्ध आत्मा के भगवान।
  87. शाश्वत – ईश्वर जो शाश्वत और अनंत है।
  88. खंडपरशु – टूटे हुए कुल्हाड़ी को धारण करने वाले भगवान।
  89. आज – वह जो अंतहीन है।
  90. अस्विमोचन – भगवान जो सभी प्राणियों को मुक्त करते हैं।
  91. मृद – कि भगवान तो दया ही करते हैं।
  92. पशुपति – पशुओं के देवता।
  93. भगवान – देवताओं के भगवान।
  94. महादेव – देवताओं में महान।
  95. हरि – जो कभी परिवर्तन के अधीन नहीं है।
  96. भगनेत्रभिद – बिल्कुल भगवान विष्णु की तरह।
  97. अदृश्य – शिव जो अदृश्य है।
  98. हर – भगवान जिसने भगा की आंख को नुकसान पहुंचाया।
  99. दक्षध्वहार – दक्ष के गौरवशाली यज्ञ का नाश करने वाला।
  100. पुष्दंतभीत – पूषान को दण्ड देने वाला।
  101. अव्यग्र – भगवान जो स्थिर और अखंड है
  102. शस्त्राक्ष – जिसके असीमित रूप हैं।
  103. सहस्त्रपद – भगवान जो हर जगह खड़े हैं और चल रहे हैं।
  104. उपवर्ग – ईश्वर जो सब कुछ देता और लेता है।
  105. अनंत – जो अनंत है।
  106. तारक – भगवान जो मानव जाति के महान रक्षक हैं।
  107. भगवान – महान भगवान।
  108. दिगंबर – भगवान जिसका वस्त्र ब्रह्मांड है।

भगवान शिव के 108 नाम का जाप और मंत्र (Jaap and Mantra of 108 Names of Shiv in Hindi)

jaap and mantra of 108 names of shiv in hindi- भगवान शिव के 108 नामों का जाप और मंत्र
jaap and mantra of 108 names of shiv in hindi- भगवान शिव के 108 नामों का जाप और मंत्र
  1. ओम शिवाय नमः
  2. ओम माहेश्वरी नमः
  3. ओम शम्भे नमः
  4. ओम पिनाकिनाय नमः
  5. ओम शशिशेखरै नमः
  6. ओम वामदेवाय नमः
  7. ओम विरुपक्षय नमः
  8. ओम कपार्डी नमः
  9. ओम निलोहिताय नमः
  10. ओम शंकराय नमः
  11. ओम शुलपनाय नमः
  12. ओम खतवंगी नमः
  13. ओम विष्णुवल्लभभाई नमः
  14. ओम शिपिविस्तय नमः
  15. ओम अंबिकानाथाय नमः
  16. ओम श्रीकांताय नमः
  17. ओम भक्तवत्सलाई नमः
  18. ओम भावाय नमः
  19. ओम शरवाय नमः
  20. ओम त्रिलोकेशाय नमः
  21. ओम शितिकांताय नमः
  22. ओम शिवप्रिया नमः
  23. ओम उगरे नमः
  24. ओम कपले नमः
  25. ओम कामराय नमः
  26. ओम अंधकासुरसुदानै नमः
  27. ओम गंगाधराय नमः
  28. ओम ललताक्षय नमः
  29. ओम कलाकलया नमः
  30. ओम कृपानिधे नमः
  31. ओम भीमाया नमः
  32. ओम परशुहस्तय नमः
  33. ओम मृगपनेय नमः
  34. ओम जटाधरराय नमः
  35. ओम कैलाशवासिनी नमः
  36. ओम कावाकिनाय नमः
  37. ओम कथोरे नमः
  38. ओम त्रिपुरन्तकय नमः
  39. ओम वृषंकाय नमः
  40. ओम वृषभरुधाय नमः
  41. ओम भस्मोधुलिट विग्रहाय नमः
  42. ओम संप्रदाय नमः
  43. ओम स्वरमय नमः
  44. ओम त्रिमुर्ताये नमः
  45. ओम अनीश्वराय नमः
  46. ओम सर्वजनाय नमः
  47. ओम परमात्मामन् नमः
  48. ओम सोमसूर्यग्निलोचनय नमः
  49. ओम हविशे नमः
  50. ओम यज्ञमयाय नमः
  51. ओम सोमय नमः
  52. ओम पंचवकात्रय नमः
  53. ओम सदाशिवय नमः
  54. ओम विश्वेश्वरय्या नमः
  55. ओम वीरभद्राय नमः
  56. ओम गणथाय नमः
  57. ओम प्रजापतिये नमः
  58. ओम हिरण्यरेत्से नमः
  59. ओम दुर्धरशाय नमः
  60. ओम गिरीशय नमः
  61. ओम गिरीशय नमः
  62. ओम अँधेय नमः
  63. ओम भुजंग भूषणाय नमः
  64. ओम भारगय नमः
  65. ओम गिरिधवा नमः
  66. ओम गिरिप्रिया नमः
  67. ओम कृतिवास नमः
  68. ओम वृद्धाय नमः
  69. ओम भागवत नमः
  70. ओम प्रमथधिपय नमः
  71. ओम मृत्युंजय नमः
  72. ओम सुक्ष्मतनवे नमः
  73. ओम जगद्व्यापिने नमः
  74. ओम जगद्गुरुवे नमः
  75. ओम व्योमकेशय नमः
  76. ओम महासेन्जंकाय नमः
  77. ओम चारुविक्रमाय नमः
  78. ओम रुद्राय नमः
  79. ओम भूतपते नमः
  80. ओम स्तंवे नमः
  81. ओम अहिरबुद्धनै नमः
  82. ओम दिगंबरराय नमः
  83. ओम अष्टमूर्तये नमः
  84. ओम अनिकेतम नमः
  85. ओम सात्विकाय नमः
  86. ओम शुद्ध विग्रहाय नमः
  87. ओम शास्वतय नमः
  88. ओम खंडपर्षे नमः
  89. ओम अजय नमः
  90. ओम पस्वमोचकाय नमः
  91. ओम मृदय नमः
  92. ओम पशुपतिये नमः
  93. ओम देवय नमः
  94. ओम महादेवाय नमः
  95. ओम अभय नमः
  96. ओम हरे नमः
  97. ओम भगनेत्रभिदे नमः
  98. ओम अव्यक्तय नमः
  99. ओम दक्षध्वराय नमः
  100. ओम हरय नमः
  101. ओम पुषदंतभिदे नमः
  102. ओम अव्यग्रय नमः
  103. ओम सहस्रक्षय नमः
  104. ओम सहस्रपदे नमः
  105. ओम उपवर्दाप्रदाय नमः
  106. ओम अनंताय नमः
  107. ओम तारके नमः
  108. ओम परमेश्वरै नमः

हिंदी में भगवान शिव के 108 नामों के बारे में उपयोगी जानकारी (Useful information about 108 Names of Shiv In Hindi)

शंकर को विनाश का देवता कहा जाता है। शंकर भभूति के साथ सौम्य रूप और साधु रूप दोनों के लिए जाने जाते हैं। उन्हें अद्वितीय देवताओं में से एक माना जाता है। शिव ब्रह्मांड के निर्माण, स्थिति और विनाश के एकमात्र शासक हैं। तीनों देवताओं में भगवान शिव को संहार का देवता माना जाता है। शिव ब्रह्मांड के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत और उत्पत्ति है और महाकाल की यह अवधि ज्योतिष का आधार है।

यद्यपि शिव का अर्थ परोपकारी माना जाता है, उन्होंने हमेशा लय और प्रलय दोनों को अपने अधीन किया है। रावण, शनि, कश्यप ऋषि आदि उनके भक्त बन गए हैं। शिव सभी को एक ही नजर से देखते हैं, इसलिए उन्हें महादेव कहा जाता है। शिव के कुछ लोकप्रिय नाम महाकाल, आदिदेव, किरात, शंकर, नागनाथ, चंद्रशेखर, जटाधारी, नागनाथ, मृत्युजय, त्र्यंबक, महेश, विश्वेश, महारुद्र, विश्वधर, नीलकंठ, विष्णु, सतीश, आशुतोष, महाशिव, उमावती, इवानियन शशिभूषण हैं। आदि।

भगवान शिव को रुद्र के नाम से जाना जाता है।रुद्र का अर्थ है जड़ों को हटाने वाला, यानी दर्द को दूर करने वाला, इसलिए भगवान शिव का रूप कल्याणकारी कारक है। रुद्राष्टाध्याय के पांचवें अध्याय में भगवान शिव के कई रूपों का वर्णन किया गया है।

आत्मा और श्रेष्ठ आत्मा, इस अर्थ में जानने से साधक अद्वैत हो जाता है। रामायण में भगवान राम के कथन के अनुसार, जो शिव और राम के बीच का अंतर जानता है, वह कभी भी भगवान शिव या भगवान राम को प्रिय नहीं हो सकता। शुक्ल यजुर्वेद संहिता के तहत रुद्र अष्टाध्याय के अनुसार, सूर्य इंद्र विराट पुरुष सभी हरे पेड़ों, भोजन, जल, वायु और मनुष्य के कल्याण के लिए भगवान शिव का रूप है। फल के अनुसार प्राप्त होता है, अर्थात् स्वस्थ बुद्धि वाले भगवान, भगवान शिव वर्षा, जल आदि देते हैं।

भगवान शिव के 108 नामों की पीडीएफ (108 Names of Shiv in Hindi PDF)

आप इस पेज को Google Chrome ब्राउज़र की मदद से आसानी से PDF में कन्वर्ट कर सकते है. कम्प्यूटर में इसके लिए आपको Ctrl + P दबाना है, जहा आपको प्रिंट के मेन्यू में सेव एस पीडीएफ का ऑप्शन मिल जायेगा। जब की मोबाईल में आपको ऊपर के राइट कॉर्नर में ऑप्शन में जाना है, वह आपको प्रिंट का ऑप्शन मिलेगा। उस प्रिंट के ऑप्शन में आपको इस पेज को PDF में सेव करना है.

FAQ

सबसे प्रिय भगवान कौन है?

आज सबसे ज्यादा लोगों के प्रिय भगवान शिव माने जाते है, जबकि मना जाता है की वह भोले है और सबसे त्वरित प्रसन्न हो जाते है.

भगवान शिव का दिन कौन सा है?

शिवरात्रि को भगवान शिव का दिन कहा जाता है, जब की उस दिन सभी जगह शिव के मंदिरो में आनद और उत्साह से मनाया जाता है.

शिव के 108 नाम का महत्व क्या है?

ऐसा माना जाता है की जो भी भक्त यह सभी नामो को याद करके उनकी उपासना करते है, उन पर शिव का आशीर्वाद होता है और वह कभी दुखी नहीं होते।

भगवान शिव के 12 नाम कोनसे है?

शिव, शंकर, भोलेनाथ, संभु, मृत्युंजय, खटवांगी, त्रिलोकेश, उग्र, गंगाधर, जटाधर, सर्वज्ञ और सोम भगवान शिव के सबसे लोकप्रिय 12 नाम है.

भगवान शिव के कितने नाम है?

वैसे तो भगवान शंकर के हजारो पर्यायवाची नाम है, लेकिन सभी भक्त उनके 108 का जाप करते है, जिससे की उन पर शिव की कृपा बनी रहे.

Disclaimer

इस आर्टिकल में गलती से हमारी टीम द्वारा कोई भी टाइपिंग एरर हो सकती है. अगर आपको कोई भी ऐसी गलती दिखे तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताये, हम जल्द ही उस गलती को सुधारने का प्रयास करेंगे।

Summary

आशा करता हूँ की आपको “भगवान शंकर, महादेव, शिव के 108 नाम और इसका अर्थ- शिव अष्टोत्तर शत नामावली (108 Names of Shiv in Hindi With Shiv Ashtottara Sata Namavali PDF)” आर्टिकल बहुत ही उपयोगी और मजेदार लगा होगा। ऐसी ही हिंदी में मजेदार जानकरी के लिए हमारे ब्लॉग www.hindi-english.net की मुलाकात लेते रहिये और हमें YouTube, Facebook और Instagram पे फोलो करना ना भूले।

Leave a Comment

hindi-english-logo-main

In this website you can find Useful Information, Dictionary, Essay, Kids Learning, Student Material, Stories, Tech Updates, Suvichar and Full Form in Hindi.

Contact us

Address- 17, Einsteinpalais, Friedrichstraße, Berlin Mitte, Berlin, Germany- 10117

hindienglishblog@gmail.com

Mon to Friday
9:00 am to 18:00 pm